" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

संसद भंग कर तुरंत चुनाव कराया जाए : वीके सिंह


सोमवार को टीम अन्ना ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला. टीम ने मांग की है कि मौजूदा संसद को भंग कर दिया जाए ताकि जनता नई संसद का फैसला कर सके.

पूर्व सेना प्रमुख वीके सिंह ने कहा, 'सरकार ने संविधान की आत्‍मा और उसकी भावनाओं को दरकिनार कर दिया है और वह जनता के खिलाफ काम कर रही है. सरकार के साथ विपक्ष भी इस मुद्दे पर चुप है. निजी कंपनियों के हितों के लिए नीतियां बनाई जा रही हैं और संसद में कोई इसके खिलाफ आवाज नहीं उठा रहा.

वीके सिंह ने कहा, 'सभी दल अपना पक्ष जनता के सामने रखें और बताएं कि वो बाजारवाद के सिद्धांतों के साथ शासन करना चाहते हैं या संविधान की आत्‍मा के अनुसार. किसी के मुंह से निवाला और किसी के हाथ से काम छीनने का काम सरकार कर रही है. इसलिए इस सरकार के भंग किया जाए ताकि नई सरकार लोगों की उम्‍मीदों के अनुसार काम कर सके.

'कालाधन वापस आता है तो देश की हालत सुधरेगी'
वीके सिंह ने कहा, 'दुनियाभर के देश अपने यहां काला धन वापस लाकर अपनी हालत सुधारने में लगे हैं लकिन हमारे यहां तो लोगों को यह भी नहीं पता कि किसका कितना काला धन विदेशी बैंकों में जमा है. देश की जनता पर क‍ड़े फैसले थोपना क्‍या लोकतंत्र है? पहले सरकार फैसले नहीं ले रही थी लेकिन अब जब फैसले ले रही है तो आम जनता की मुसिबतें बढ़ाने वाले फैसले ले रही है. रिटेल में एफडीआई पर पीएम फैसला कैसे ले सकते हैं जबकि कांग्रेस अल्‍पमत में है.

अन्ना ने भी किया तीखा प्रहार
इस मौके पर अन्‍ना हजारे ने कहा, 'हमें इस देश को बदलना है. हम ना तो रिमोट कंट्रोल अपने हाथ में रखेंगे और ना ही व्‍यवस्‍था के अंदर शामिल होंगे. हम केवल लोगों को जगाएंगे और लोग जब जाग जाएंगे तब परिवर्तन आएगा.'

उन्‍होंने कहा कि कई लोगों को लगता है कि संसद भंग होनी चाहिए लेकिन उनके पास वो शक्ति नहीं है. इसलिए हम 30 जनवरी से पूरे देश में जाएंगे और लोगों को बताएंगे कि ये क्‍या हो रहा है. अन्‍ना ने कहा कि इस देश के लिए कई लोगों ने कुर्बानी दी और इसका क्‍या हाल हो गया है. इसलिए लोगों को जगाना जरूरी है.
" "