" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

विदेश मंत्रालय के साथ ही एके की चुनौती साधने में जुटे सलमान


नई दिल्ली, प्रणय उपाध्याय। केंद्रीय मंत्रिमंडल में विदेश मंत्री की जिम्मेदारी संभालने के साथ सलमान खुर्शीद फर्रुखाबाद में एक नवंबर को हो रहे इंडिया अगेंस्ट करप्शन [आइएसी] के धरने के खिलाफ अपनी मोर्चेबंदी को मजबूत करने में भी जुटे हैं। दिल्ली से सलमान के भरोसे के नुमाइंदे फर्रुखाबाद पहुंच रहे हैं। टीम केजरीवाल के हमले को उनकी ही तर्ज पर काटने का खाका भी तैयार किया गया है।

सोमवार को विदेश मंत्री के नुमाइंदे फर्रुखाबाद में बचाव का मोर्चा तैयार करने के लिए वहां पहुंच रहे हैं। आइएसी के धरने को नाकाम करने के लिए स्थानीय समर्थकों के साथ मिलकर जवाबी कार्रवाई का खाका भी तैयार कर लिया गया है। सलमान के एक करीबी सहयोगी फरीद चुगताई ने कहा, 'फर्रुखाबाद में बतौर हमलावर अरविंद केजरीवाल [एके] आ रहे हैं। लिहाजा हम लोग तो केवल शांतिपूर्ण तरीके से अपनी रक्षात्मक तैयारी कर रहे हैं। इस कड़ी में हम भी उनसे कई सवाल पूछेंगे।'

दिल्ली से फर्रुखाबाद जा रहे सलमान के एक सहयोगी के मुताबिक जवाबी रणनीति में टीम केजरीवाल के सदस्य जहां भी जाएंगे उन्हें काले झंडे दिखाए जाएंगे। 'मैं हूं सलमान' के नारे वाली टोपियां पहन सलमान समर्थक टीम केजरीवार को घेरेंगे। फर्रुखाबाद में आइएसी के धरने में बांटने के लिए करीब डेढ़ दर्जन सवालों के पर्चे भी तैयार किए गए हैं। इन पर्चो में अरविंद केजरीवाल से पूछे गए सवाल लगभग वहीं हैं जो बीते दिनों कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने अरविंद के आगे दागे थे।

बताया जा रहा है कि आइएसी के प्रदर्शन के दौरान सलमान खुर्शीद व उनकी पत्नी लुईस फर्रुखाबाद में नहीं होगी। बीते दिनों के एक समाचार चैनल ने स्टिंग ऑपरेशन कर लुईस खुर्शीद की अगुआई वाले जाकिर हुसैन ट्रस्ट पर सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्रालय से विकलांगों की सहायता के लिए मिले अनुदान में वित्तीय गड़बड़ी व धोखाधड़ी के आरोप लगाए थे। इसके बाद अरविंद केजरीवाल व आइएसी समर्थकों ने खुर्शीद के खिलाफ प्रधानमंत्री आवास पर भी धरना दिया था। साथ ही खुर्शीद के संसदीय क्षेत्र फर्रुखाबाद में धरने का भी एलान किया था।

" "