" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

पाकिस्तान में "अन्ना रैली" की हुंकार से डरी सरकार


पाकिस्तान एक बार फिर बेहद गंभीर सियासी संकट में फंस गया है। भ्रष्‍टाचार के मुद्दे पर पूरा पाकिस्‍तान हिल गया है। एक तरफ पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने भ्रष्टाचार के एक मामले में प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ की गिरफ्तारी के आदेश जारी किए हैं। दूसरी ओर मौलवी ताहिर उल कादरी राजनीतिक जमात के खिलाफ आंदोलन छेड़े हुए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें 24 घंटे के अंदर गिरफ्तार करने को कहा है। पाक पीएम परवेज अशरफ पर रेंटल पावर प्रोजेक्ट में करोड़ों रुपये के घोटले के आरोप हैं। इसमें वह मुख्य आरोपी हैं। अशरफ के अलावा उनके कई मंत्रियों और पावर कंपनी के अधिकारियों को भी गिरफ्तार करने का आदेश दिया गया है। पाकिस्तानी संसद, विधानसभाओं को भंग करने और सरकार के इस्तीफे समेत कई मांगों को लेकर लॉन्ग मार्च के साथ संसद के बाहर हजारों समर्थकों के साथ मौलवी ताहिर उल कादरी जमे हुए है। पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने एनएबी को प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ की गिरफ्तारी के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने ये भी कहा है कि अगर इनमें से कोई भी देश से बाहर फरार होने में कामयाब रहता है तो उसके लिए एनएबी चेयरमैन को जिम्मेदार मानते हुए इसे कोर्ट की अवमानना करार दिया जाएगा। परवेज अशरफ पर पीएम बनने से पहले ही रेंटल पावर में भ्रष्टाचार का केस चल रहा था।  

कादरी ने खड़ा किया राजनीतिक तूफान  

इस आदेश के साथ ही पाकिस्तान एक बार फिर राजनीतिक अस्थिरता के दौर में जाता दिख रहा है। लंबे समय बाद ये पहली सरकार थी जिसने चार साल से ज्यादा का कार्यकाल पूरा कर लिया, लेकिन पाक पीएम की गिरफ्तारी के आदेश ने राजनीतिक अनिश्चितता को बढ़ा दिया है। एक तरफ पाक के प्रधानमंत्री की गिरफ्तारी का आदेश दिया गया है और दूसरी तरफ कादरी के प्रदर्शनों से सरकार हिली हुई है। कादरी का लांग-मार्च न केवल सरकार बल्कि सेना पर भी भारी पड़ता दिख रहा है। कनाडा में रहने वाले पाकिस्तान के धार्मिक गुरु कादरी भ्रष्ट सरकार के खिलाफ और चुनाव सुधारों की मांग को लेकर सड़कों पर हैं। ध्‍यान रहे कि पाकिस्‍तानी कादरी को बहुत मानते हैं और उनकी बात को तवज्‍जो भी देते हैं। कादरी करीब सात साल बाद बाद पाकिस्तान लौटे हैं। उनके विज्ञापनों में नारा बुलंद किया जा रहा है- देश को बचाइए, राजनीति को नहीं। चुनाव से ठीक पहले उनके आंदोलन ने सत्‍तारूढ़ पाकिस्‍तान पीपुल्‍स पार्टी के होश उड़ा दिए हैं। 

सुप्रीम कोर्ट बोला, इलेक्‍शन के लिए तैयार रहे चुनाव आयोग 

पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को कहा कि इस वर्ष देश में होने वाला आम चुनाव समय पर होगा और चुनाव आयोग को इसके लिए तैयार रहना चाहिए। जियो न्यूज की रपट के मुताबिक, चुनाव सुधारों से संबंधित एक मामले की सुनवाई करते हुए प्रधान न्यायाधीश इफ्तिखार मोहम्मद चौधरी ने कहा कि चुनाव में देरी नहीं की जा सकती। इस मामले की सुनवाई प्रधान न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यी पीठ कर रही थी। सुनवाई के दौरान प्रधान न्यायाधीश चौधरी ने कहा कि किसी भी कीमत पर चुनाव समय पर होंगे। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे के साथ कोई समझौता मंजूर नहीं होगा। उन्होंने कहा कि चुनाव कराने के लिए सरकार की ओर से दिए जाने वाले निर्देश का पालन करने के लिए चुनाव आयोग तैयार रहे।

" "