" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

शहीद का सम्मान पैसों ने नहीं तोला जा सकता : बिक्रम सिंह



धन्य हैं वे माता-पिता और यह धरती मां, जिसने सुधाकर व हेमराज जैसे वीरों को जन्म दिया। मैं इन शहीदों को नमन करता हूं। शहीद के सम्मान को पैसों ने नहीं तोला जा सकता है। सिपाही का सम्मान ही सबसे बड़ा होता है। यह बात सीधी जिले के डढिय़ा गांव में लांस नायक शहीद सुधाकर सिंह को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थल सेनाध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह ने कही। 

सेना के विशेष हेलीकॉप्टर से चुरहट स्टेडियम पहुंचकर सड़क मार्ग से जनरल सिंह लगभग डेढ़ बजे डढिय़ा गांव पहुंचे। उन्होंने भारत-पाकिस्तान सीमा पर शहीद हुए सुधाकर सिंह की प्रतिमा पर श्रद्धा सुमन अर्मित किए और परिजनों से मुलाकात की। 

सेनाध्यक्ष के गांव में पहुंचते ही सैकड़ों लोगों ने (जय हिंद) और (सुधाकर सिंह अमर रहे) के नारे लगाए।  

इस अवसर पर शहीद की पत्नी दुर्गा सिंह ने कहा कि बेटा भास्कर की परवरिश कर मैं उसे सेना में भेजूंगी, ताकि वह पाकिस्तान से बदला ले सके और अपने पिता के देशसेवा के सपने को पूरा करे।
" "