" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

बड़ों के साथ रेप समझ में आता है, लेकिन बच्चों के साथ क्यों : बीजेपी नेता रमेश बैस


नई दिल्ली : 25 दिन पहले दिल्ली की चलती बस में हुए सामूहिक बलात्कार पर नेताओं और नेत्रियों द्वारा दिए जाने वाले विवादित बयानों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अभी संत आसाराम के बयानों का विवाद शांत भी नहीं हुआ है कि एक और नेता ने ऎसा ही विवादित बयान देकर स्वयं को चर्चाओं में ला दिया है। अब भाजपा सांसद रमेश बैस ने बलात्कार को लेकर विवादित बयान दिया है। उनके बयान की चौतरफा आलोचना हो रही है। 

उन्होंने कहा कि महिलाओं और लडकियों के साथ बलात्कार की बात समझ में आती है लेकिन नाबालिग के साथ बलात्कार करने वालों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि नाबालिग से बलात्कार घृणित अपराध है। ऎसा करने वालों को फांसी पर लटका देना चाहिए। छत्तीसगढ के कांकेर में एक छात्रावास में नाबालिग बच्चियों के साथ बलात्कार की घटना के संबंध में उन्होंने यह बात कही। बैस के इस बयान पर कांग्रेस ने कडी प्रतिक्रिया जाहिर की है।

बैस ने कहा कि कांकेर जैसी घटनाएं कई इलाकों में होती हैं लेकिन वे सामने नहीं आती। केवल कर्मचारियों को बर्खास्त करने से पीडिता को सम्मान नहीं मिल जाएगा। आरोपियों को कडी सजा मिलनी चाहिए। पार्टी प्रवक्ता शैलेष नितिन त्रिवेदी ने कहा कि बलात्कार किसी से भी हो, यह घृणित अपराध है। रमेश बैस का बयान आपत्तिजनक है। हम उनके बयान की निंदा करते हैं।

" "