" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

हेट स्पीच: ओवैसी को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत


हैदराबाद। बुधवार को आदिलाबाद के निर्मल टाउन की एक अदालत ने अकबरूद्दीन को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। भड़काऊ भाषण देने वाले विधायक अकबरुद्दीन की गिरफ्तारी के बाद उनके समर्थक आंध्र प्रदेश के आदिलाबाद में हिंसा फैला रहे हैं।  प्रदर्शनकारियों ने दो न्‍यूज चैनलों की ओबी वैन पर पथराव किया। 

एक समुदाय विशेष के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने वाले आंध्रप्रदेश के विधायक अकबरूद्दीन ओवैसी को कल गिरफ्तार कर लिया गया है।  मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमीन के सदस्य ओवैसी ने आठ दिसंबर को निजामाबाद में आपत्तिजनक भाषण दिया। 

इसके बाद 24 दिसंबर को आदिलाबाद के निर्मल टाउन में दो घंटे तक ऐसी बयानबाजी की। इस बीच आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी ने राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन से मिलकर मामले पर चर्चा की है। यू-ट्यूब पर ओवैसी के भाषण का वीडियो 27 दिसंबर को सामने आया। निर्मल टाउन मामले में वकील काशिमशेट्टी करुणासागर ने उनके खिलाफ 28 दिसंबर को कोर्ट में पहली शिकायत दर्ज कराई। 

विफल रही बचाव की कोशिश 

अकबरूद्दीन ओवैसी ने अपने खिलाफ दाखिल तीनों एफआईआर खारिज करने के लिए आंध्रप्रदेश हाईकोर्ट में अर्जी लगाई थी। लेकिन कोर्ट ने उन्हें पहले पुलिस के सामने पेश होने को कहा था। 

आगे क्या : विधायक के खिलाफ विधानसभा अध्यक्ष के सामने भी शिकायत दर्ज कराई गई है। फैसला होना बाकी है। 

सियासी रंग: भाजपा और उससे जुड़े दूसरे हिन्दू संगठनों ने कांग्रेस पर ओवैसी का बचाने का आरोप लगाया। निजामाबाद के भाजपा विधायक लक्ष्मी नारायण ने निर्मल टाउन में धरना दिया। बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के लोगों ने दिल्ली में ओवैसी के घर पर हमला किया। 


दिल्ली सहित देश के कई हिस्सों में उनके खिलाफ शिकायतें दर्ज की गईं। हैदराबाद की स्थानीय अदालत ने तीन जनवरी को उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए थे। ओवैसी के खिलाफ निजामाबाद में देशद्रोह की धारा के तहत मामला दर्ज है। उस्मानिया यूनिवर्सिटी थाने में भी उन्हें 10 जनवरी को पेश होने को कहा गया है। 


मंगलवार को पुलिस ने ओवैसी को गांधी अस्पताल से गिरफ्तार किया। इससे पहले करीब छह घंटे तक डॉक्टरों की टीम ने उनके स्वास्थ्य की जांच की। उनकी ओर से हरी झंडी मिलने के बाद उन्हें पकड़कर निर्मल टाउन ले जाया गया। इससे पहले विधायक के वकील ने गिरफ्तारी का विरोध किया। कहा कि ओवैसी की दाहिनी जांघ में गोली धंसी है। इससे वे ज्यादा चल-फिर नहीं सकते। अप्रैल 2011 में बारकास इलाके में एक जमीन विवाद में उन्हें गोली लगी थी। 



" "