" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त कानून बने: आमिर खान

Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption, Aamir Khan, Kareena Kapoor, Rani Mukherji, Corruption,

अभिनेता आमिर खान, अभिनेत्री रानी मुखर्जी और करीना कपूर से हाल ही में सीधी बात कार्यक्रम में  बातचीत की. प्रमुख अंश:
*करीना, कैसी चल रही है शादी के बाद की नई जिंदगी?
पहले मैं खुश थी, अब और ज्यादा खुश हूं.

*आमिर, लगता नहीं तीन साल का लंबा गैप हो गया है आपकी किसी फिल्म को रिलीज हुए. लगता है, अभी की तो बात थी.
नहीं, मुझे तो लगा कि बहुत वक्त हो गया है. मैंने अपने दर्शकों को मिस किया. बेशक मैंने सत्यमेव जयते किया और लोगों के बीच बना रहा,  फिर भी अपने दर्शकों को काफी मिस किया है.

*तलाश करने का फैसला क्यों किया?
मुझे कहानी बहुत पसंद आई. नैरेशन अच्छा लगा. कहानी हर जगह एक नया मोड़ लेती है और खास बात यह थी कि कहानी में सस्पेंस होने के साथ-साथ वह इमोशनल भी थी.

*यानी किसी भी फिल्म में सस्पेंस बना रहे, यह जरूरी है. पर आजकल इंटरनेट और सोशल मीडिया है, तो आपको नहीं लगता कि सस्पेंस बनाए रखना भी मुश्किल है?
(रानी) आज के दौर में लोग फिल्म देखते हुए ही रिव्यू लिख देते हैं. जिस दौर में मधुमती या तीसरी मंजिल  फिल्म आई थी उस समय यह सब नहीं था. सभी एक साथ फिल्म देखने जाते थे. और सस्पेंस बाहर नहीं आता था.

*(रानी से) फिल्म की शूटिंग के दौरान आमिर किसी तरह की सीख देते हैं?
आमिर से तो मैं बहुत सीख लेती हूं.

*आमिर, आपको लंबा अरसा हो गया कोई फ्लॉप फिल्म बनाए हुए. आप जो भी फिल्म करते हैं, वह सुपर हिट हो जाती है.
जिस भी फिल्म को करते हैं उससे दिल लग जाता है. हम चाहते हैं कि वह लोगों को पसंद आए और यह मेरी खुशनसीबी है कि जिन डायरेक्टर्स के साथ मैंने काम किया उन्होंने अच्छी फिल्में बनाईं. मैं कामयाबी के बारे में नहीं सोचता. जो चीज मेरे हाथ में है, मैं उसके बारे में सोचता हूं और वह यह कि मैं अच्छी फिल्में करूं, वह काम करूं जिससे मेरा दिल खुश रहे, वही मैं करता हूं.

*पहले क्रिकेट में बल्लेबाजों के बीच सेंचुरी मारने की होड़ होती थी. अब खानों के बीच सेंचुरी की लड़ाई चल रही है. डबल सेंचुरी तो हम देख चुके हैं, अब क्या ट्रिपल सेंचुरी हो सकती है?
अब जिस तरह बिजनेस बढ़ रहा है, सिनेमा घर आगे आ रहे हैं, मल्टीप्लेक्सेज़ में इजाफा हो रहा है. ऐसे में हिट फिल्म के पैमाने बढ़ते रहते हैं.

*अब आपकी नजर 300 करोड़ रु. पर है?
नहीं, मेरी नजर आंकड़ों पर नहीं होती, मेरी नजर इस बात पर होती है कि ऑडिएंस को मेरी फिल्म कितनी पसंद आई. उसमें मुझे इंटरेस्ट है.

*रानी, आपको कभी लगा कि आज जब हीरोइनें ग्लैमराइज्ड रोल कर रही हैं, आपका रोल बहुत डी-ग्लैम है?
(आमिर) मुझे तो ये हमेशा अच्छी लगती हैं. रानी फिल्म में बहुत खूबसूरत लगी हैं.

(रानी) मेरे दर्शक चाहते हैं कि मैं हर रोल में अलग दिखूं और मैं हमेशा चाहती हूं कि मेरे डायरेक्टर्स खुश रहें. फिल्म एक डायरेक्टर के विजन पर बनती है और मैं हमेशा चाहती हूं कि मैं कैरेक्टर के साथ जस्टीफाइ कर सकूं.

*आपके शो सत्यमेव जयते में अब्दुल हकीम नाम के एक सज्जन आए थे. हाल ही उनकी हत्या हो गई. उनकी पत्नी मेहविश कहती हैं कि वे शो में आए, इसलिए ऐसा हुआ. आपको लगता है कि कहीं आप इस मौत के जिम्मेदार हैं?
हम शो में उनकी कहानी दिखा नहीं पाए. वे हमारी ऑडिएंस में बैठे थे. पर उनके गांव वालों के लिए इतनी बात भी काफी थी. उनकी मौत के बारे में सुनकर हम सभी बहुत डिस्टर्ब हुए. हमारा मकसद ऑनर किलिंग जैसे मुद्दों पर रोशनी डालना था ताकि ऐसे वाकए कम हों और लोगों का नजरिया बदले. हम कोशिश कर रहे हैं कि उनकी पत्नी को धमकियां देने वालों के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएं. मैं पुलिस और सीएम को चिट्टी लिख रहा हूं.

*आप रामलीला मैदान में आए, आपने अण्णा और केजरीवाल का साथ दिया. अब वे दोनों अलग हैं. अब आप किसके साथ हैं?
मैं मुद्दे के साथ हूं. मेरा मानना है कि भारत में भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त कानून आना चाहिए. मैं अण्णा जी और अरविंद जी को पहले से नहीं जानता था. मैं सिर्फ मुद्दे को सपोर्ट कर रहा था.

*रानी, आपको नहीं लगता कि आपको भी राजनैतिक मुद्दों पर राय देनी चाहिए?
जरूर देनी चाहिए.

*करीना?
मैं पॉलिटिक्स के मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती क्योंकि मैं इस बारे में कुछ जानती नहीं हूं.

" "