" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

अगर पीडिता को बेहतर उपचार के लिए सिंगापुर भेजा जा सकता है तो बलात्कारी को बेहतर न्याय के लिए ईरान भी भेजा जा सकता है

iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public iran hangs 5 rapists in public

ईरान में 5 दुष्कर्मियों को सरेआम मौत की सजा


सरकार भले ही दिल्ली में चलती बस में मेडिकल छात्रा से गैंगरेप की घटना के बाद भड़के जनाक्रोश से डर गई हो, लेकिन आज भी यह सवाल बना हुआ है कि सरकार बलात्कारियों को कब सजा देगी। सरकार आरोंपीयों को फांसी देने पर वह अभी भी फैसला  नहीं ले रही है। दूसरी तरफ ईरान ने बलात्कार करने वाले आरोपियों को सरेआम फांसी देकर भारत के लिए उदाहरण पेश किया है। सबसे अहम बात यह है कि सजा-ए-मौत पाने वाले सभी दोषियों की आयु 30 वर्ष के आसपास है।

अब भारत की जनता यह सवाल उठा  रही है कि इसलामिक देशों में महिलाओं में सुरक्षा की भावना पैदा करने के लिए बलात्कार जैसे जघन्य अपराध के लिए सरेआम फांसी दी जा सकती है। तो भारत में बलात्कारियों को फांसी  देने में देरी क्यों। ईरान के दक्षिण पश्चिमी शहर यासोउज में सरकार ने बलात्कार के पांच दोषियों को एक पार्क में सब के सामने फांसी दे दी। पांचों में से चार आरोंपीयों ने उसके मंगेतर के सामने उठा लिया और महिला को हवस का शिकार बनाया और पांचवे शख्स ने अन्य महिला के साथ दुष्कर्म किया।

" "