" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

देश को बदलने के लिए युवा शक्ति की जरूरत : अन्ना


वाराणसी: सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने प्राण रहने तक भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष का संकल्प लेते हुये युवाओं का आह्वान किया है कि वे भ्रष्टाचार मिटने और देश का भविष्य बदलने के लिये आगे आये।

वाराणसी के दो दिवसीय दौरे पर आये अन्ना ने बुधवार को छात्र युवा सम्मेलन को संबोधित करते हुये कहा कि देश को युवा शक्ति ही बदल सकती है। युवा शक्ति यदि जग जाये तो देश की तकदीर बदलना असंभव नहीं। 85 वर्षीय अन्ना ने भारत माता की जय और वंदे मातरम की नारों के बीच कहा क आजादी के 65 वर्ष बीतने के बाद हालत यह है कि देश में कुछ लोग खाने के लिये जी रहे हैं और कुछ जीने के लिये खा रहे हैं। मैंने भारत माता मंदिर में प्रण किया है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष जारी रखूंगा

उन्होंने कहा कि प्रकृति एवं मानवता का दोहन नहीं होना चाहिये। संसद में बैठे लोग यदि संसदीय मर्यादा का पालन नहीं करते तो उन्हें संसद में बैठने का हक नहीं है। अन्ना ने कहा कि 26 वर्ष की उम्र में उन्होंने एक बार आत्महत्या करने की सोची थी, लेकिन यह विचार त्याग कर उन्होंने ठान लिया कि देश सेवा करते हुये मरना है और इसी सोच के साथ उन्होंने शादी न करने का फैसला किया।

उन्होंने युवाओं को शादी से परहेज की सलाह नहीं दी लेकिन साथ ही कहा कि वैवाहिक जीवन व्यतीत करते हुये भी वे समाज एवं देश की सेवा के लिये समय निकालें।

हजारे ने कहा कि 1947 में देश को आजादी जरूर मिली, लेकिन भ्रष्टाचार, गुण्डागर्दी या लूट किसी चीज में कमी नहीं आयी। इसलिये देशवासियों को आजादी की दूसरी लड़ाई लड़नी है।

उन्होंने ऐलान किया कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आगामी 30 जनवरी को पटना के गांधी मैदान से आंदोलन की शुरूआत की जायेगी और लगभग डेढ़ साल तक पूरे देश में घूमकर जनता को भ्रष्टाचार के खिलाफ जागृत करेंगे। 
" "