" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

खुर्शीद ने विकलांगों का पैसा चुराया : अरविंद केजरीवाल


अरविंद केजरीवाल ने फर्रुखाबाद में रैली कर सलमान खुर्शीद, प्रधानमंत्री और यूपी के मुख्यमंत्री को लपेटे में लिया और इस सभी पर मिले होने का आरोप मढ़ते हुए कहा कि सलमान खुर्शीद ने विकलांगों का पैसा चुराया है और उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए.
सलमान खुर्शीद के संसदीय क्षेत्र फर्रुखाबाद में अरविंद केजरीवाल ने रैली से पहले ही हंगामा हो गया और केजरीवाल समर्थकों और कांग्रेस समर्थकों में झड़प हो गई. दरअसल, पुलिस ने केजरीवाल की रैली में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के जाने पर रोक लगा दी.

अपने संबोधन के दौरान केजरीवाल ने सबसे पहले लोगों से यह निवेदन किया कि वो हिंसा का रुख नहीं अपनायें. केजरीवाल ने कहा, ‘मैं सलमान कैंप का हूं मैं केजरीवाल कैंप का हूं. यह गलत है. जिन्हें विरोध करना है जरूर करें और सामने आकर बात करें.’

केजरीवाल ने कहा, ‘मुझे कुछ 20-25 लोगों ने काले झंडे दिखाये आज. मुझे लगता है कि सिर्फ इन 25 लोगों के साथ खुर्शीद ये सीट कैसे जीतेंगे.’

इसके बाद केजरीवाल ने सलमान खुर्शीद पर लगाए अपने आरोपों को दोहराते हुए कहा, ‘जितना पैसा सलमान खुर्शीद के एनजीओ को दिया गया था वो सभी चोरी हो गया.’

खुर्शीद पर हमला करते हुए केजरीवाल ने कहा, ‘ये देश के कानून मंत्री थे. इन्होंने अपनी पत्नी के साथ मिलकर सारा पैसा चोरी कर लिया और जब हमने विकलांगों के साथ प्रधानमंत्री जी से मिलने की कोशिश की तो मिलने नहीं दिया गया. पुलिसवालों ने 60-70 विकलांगों से प्रधानमंत्री की सुरक्षा को खतरा का हवाला देते हुए हमें गिरफ्तार कर लिया.’

उन्होंने प्रधानमंत्री पर हमला करते हुए कहा, ‘ये प्रधानमंत्री जिसे 60-70 विकलांगों से डर लगता है वो देश भला क्या चलायेगा. हम 60 विकलांगों से डरने वाले प्रधानमंत्री से इस्तीफे की मांग करते हैं.’

अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘हमारी मांग है सलमान खुर्शीद के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो और उन्हें गिरफ्तार किया जाए.’

केजरीवाल ने कहा, ‘हमने सोचा कि हमने फर्रुखाबाद जा कर उनके मालिक से मिलते हैं. इन्होंने वकीलों का पैसा चुराया. ये आदमी उनका हक मार कर चोरी कर लेता है. किसी भी विकलांगों को यहां से खड़ा करके जिताया जाए.’

केजरीवाल ने कहा, ‘इसके बाद सलमान का बयान आया ‘अब मैं खून से लिखूंगा’. उन्होंने कहा कि मैं सोनिया जी के लिए जान दे सकता हूं. मैं तो सोचता था कि ये देश के लिए जान दे सकते हैं. एक औरत के लिए जान देना. लेकिन इस घोटाले के बाद इनको फायदा हुआ और इन्हें विदेश मंत्री बना दिया गया.’

केजरीवाल ने अखिलेश यादव को भी घेरे में लेते हुए कहा, ‘अखिलेश क्या जांच कर रहे हैं वो तो सिर्फ लीपापोती कर रहे हैं. चोर चोर मौसेरे भाई वाली कहावत है. ये इनको यहां बचायेंगे वो उनको वहां सीबीआई से बचायेंगे.’ उत्तर प्रदेश सरकार की 12 जून की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए केजरीवाल ने कहा, ‘अखिलेश यादव की बनाई गई रिपोर्ट है. ये उस जांच से संबंधित है जो सलमान खुर्शीद के ट्रस्ट से संबंधित है और मायावती के कार्यकाल में शुरू हुई थी. इस रिपोर्ट में जो लिखा है उसपर जिला विकलांग कल्याण अधिकारी के हस्ताक्षर हैं.’

केजरीवाल ने कहा, ‘सभी मिले हैं. सोनिया राहुल चुप क्यों हैं.’ उन्होंने आगे कहा, ‘सभी पार्टियां मिली हुई हैं. अब समाजवादी की सरकार है लेकिन मायावती जेल नहीं जाएंगी. क्या मुलायम सिंह गए थे जब मायावती मुख्यमंत्री थीं?’

केजरीवाल ने कहा, ‘मैंने दिल्ली में लोगों के घर जाकर उनकी काटी गई बिजली कनेक्शन को जोड़ा और कई लोगों ने खुद ही अपना कनेक्शन जोड़ लिया. मैंने ये कोशिश लोगों के मन से डर निकालने के लिए किया.’ 2014 के चुनावों में मेरी पार्टी की अगर थोड़ी भी चली तो और हमने कुछ कारनामा कर दिया तो तय मानिए कि इन सभी खुलासों पर कार्रवाई की जाएगी और छह महीने के बाद इन सभी घोटालेबाजों को सलाखों के पीछे भेजा जाएगा.

घोटाले में सभी पार्टियां शामिल हैं और ये राजनीति का मतलब सिर्फ भ्रष्टाचार समझते हैं. राजनीति करने का मतलब है लोगों की सेवा करना लेकिन ये इनकी समझ में नहीं आता. महात्मा गांधी भी राजनीति करते थे और वो जनसेवा के रूप में था.

केजरीवाल ने कहा, ‘अभी एक और खुलासा करने वाले हैं कि पानी के दाम क्यों बढ़े.’

केजरीवाल ने अंत में पुलिसवालों से निवेदन किया कि वो उनकी हिफाजत के लिए कठिन प्रयास नहीं करें. उन्होंने कहा, ‘जाके राखो साईंयां मार सके ना कोई.

" "