" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

हम राजनीतिक सिस्टम को बदल कर रख देंगेः राहुल गांधी

दिल्ली के रामलीला मैदान में हो रही कांग्रेस की महारैली में राहुल गांधी ने राजनीतिक सिस्टम को पूरी तरह से बदलने का वादा किए। पढ़े राहुल गांधी का पूरा भाषण

2004 में जब हमारी सरकार बनी थी हमने हिंदुस्तान की जनता से एक वायदा किया था। कहा था कि आम आदमी की आवाज दिल्ली में सुनाई देगी। जो भी हम करेंगे आम आदमी के लिए करेंगे, गरीब के लिए करेंगे, पिछड़ों के लिए करेंगे। 

8 साल से हम सरकार में हैं और हमने बड़े-बड़े काम करके दिखाए। दुनिया का सबसे बड़ा रोजगार कार्यक्रम मनरेगा हमने देश को दिया। 

विपक्ष के लोग भ्रष्टाचार की बात करते हैं लेकिन हमने देश के लोगों को आरटीआई का अधिकार दिया। इस अधिकार से कोई भी व्यक्ति देश की सरकार और प्रशासन के बारे में कोई भी जानकारी निकाल सकता है। देश में आज भ्रष्टाचार के जो मामले खुल रहे हैं वो आरटीआई से खुल रहे हैं। 

मनमोहन सिंह जी की सरकार ने  सस्ते कर्ज के रास्ते किसानों के लिए खोले। जब भी हमने विकास के लिए काम करना चाहा, विपक्ष ने विरोध किया। सिर्फ विरोध के लिए विरोध किया। बिना सोचे बिना समझे बिना सोचे विरोध किया। 

आने वाले समय में हम आम आदमी के लिए और काम करने वाले हैं। हम जल्द ही भोजन के अधिकार का बिल संसद में रखने वाले हैं। जो आधी रोटी खाता है उसे पूरी रोटी खाने का अधिकार हम देंगे। 

भट्टा परसौल मामले से जमीन अधिग्रहण की बात शुरू हुई। गरीबों की जमीन ली जा रही थी लेकिन कोई सवाल नहीं पूछ रहा था। अब हम नया जमीन अधिग्रहण बिल लाने वाले है जिससे किसानों के हितों की रक्षा हो सकेगी। 

लोकपाल पर सबने सिर्फ बातें ही की लेकिन बिल हम लेकर आए। सदन में जिस दिन लोकपाल बिल गिरा उस दिन विपक्ष हंस रहा था। हमारा वादा है कि  हम फिर से लोकपाल बिल लाएंगे और पास करवाकर दिखाएंगे, आप देख लेना। 

यह सभा दिल्ली में हो रही है, दिल्ली के बारे में कहना चाहूंगा कि हमने दिल्ली को पूरी तरह बदला है। शीला दीक्षीत जी के नेतृत्व में दिल्ली का पूरा कायापलट हमने किया है। आज दिल्ली में सड़के हैं, रोजगार है, इंफ्रास्ट्रक्चर है। 

भारत की अर्थव्यस्था पर माननीय मनमोहन सिंह विस्तार से बात करेंगे, लेकिन मैं कुछ और बात कहना चाहता हूं। मैं अपने दिल की बात आपसे करना चाहता हूं। पिछले 8 सालों से मैंने इस राजनीतिक व्यवस्था को बहुत करीब से देखा है। किसानों से, युवाओं से, मजदूरों से, दलितों से बात की है। मैंने सिस्टम को समझने की कोशिश की है। 

आज हमारे सामने सबसे बड़ी समस्या हमारा राजनीतिक सिस्टम है। इसकी सबसे बड़ी कमजोरी यह है कि आम आदमी और कमजोरों के लिए यह सिस्टम बंद है। आम आदमी इसका नतीजा रोज सहता है। 

जब आम राशन कार्ड लेने जाते हो और आपको भगा दिया जाता है तो बंद सिस्टम की चोट आप पर लगती है। जब किसी  सरकारी दफ्तर में आप काम करवाने जाते हैं और आपको वहां से भगा दिया जाता है तब बंद सिस्टम आपको चोट मारता है। जब कोई बच्चा शिक्षा पाना चाहता है तब यह बंद राजनीतिक सिस्टम उसे ठोकर मारता है। 

राजनीतिक पार्टियों के दरवाजे आम आदमी के लिए बंद पड़े हुए है। युवा सपना देखता है। आसमान की ओर देखता है। बड़े-बड़े सपने देखता है लेकिन हमारा सिस्टम उसके सपनों को ठोकर मारकर जमीन पर गिरा देता है। यह किसी एक के साथ नहीं होता बल्कि सबके साथ होता है। यह सिस्टम आम आदमी को ठोकर मारता रहता है, सिस्टम के दरवाजे बंद है। और वही लोग जो सिस्टम के चलाते हैं वही एक दूसरे पर पत्थर मारते रहते हैं। 

जो सबसे बड़ा सवाल है, सिस्टम को आम आदमी के लिए खोलने की बात नहीं करते। वो भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते हैं, लेकिन विपक्ष के नेता कभी भी सिस्टम को बदलने की आवाज नहीं उठाते हैं। मैं स्वीकार करता हूं कि राजनीति में आम आदमी की बात नहीं पहुंच पाती है। वो घूमता रहता है। ठोकर खाता रहता है। 

जब तक आम युवा राजनीतिक सिस्टम में नहीं आएगा, जब तक कमजोर युवा, हर जात का युवा राजनीतिक सिस्टम में नहीं आएगा तब तक यह देश नहीं बदल सकता। विरोध करने से कुछ नहीं होता, रास्ता दिखाने से कुछ होता है। अगर आज किसी ने रास्ता दिखाया है तो कांग्रेस पार्टी ने दिखाया है। मैं आज भविष्य की बात करना चाहता हूं और कांग्रेस पार्टी के लिए भी कहना चाहता हूं कि हमें अपने बंद दरवाजे खोलने हैं, युवाओं के लिए बंद दरवाजे खोलने हैं। आज जो हमारे लाखों कार्यकर्ता यहां आए हैं हमें उनकी आवाज सुननी है। यही हमारी रीढ़ की हड्डी है, यही हमें रास्ता दिखाती है। जब तक हम कांग्रेस पार्टी को बदलेंगे नहीं, कांग्रेस पार्टी के दरवाजे नहीं खोलेंगे तब तक यह देश आगे नहीं बढ़ सकता। बाकी लोग यह काम नहीं कर सकते हैं, सिर्फ कांग्रेस पार्टी कर सकती है। बाकी लोग सिर्फ विरोध कर सकते हैं। 

देश को हरित क्रांति कांग्रेस ने दी, कंप्यूटर कांग्रेस ने दिया, अर्थव्यवस्था के  रास्ते कांग्रेस ने खोले और अब राजनीतिक सिस्टम को भी कांग्रेस पार्टी ही बदलेगी। 100 साल पहले गांधी जी जब हिंदुस्तान आए थे तब कांग्रेस पार्टी में मात्र दस पंद्रह लोग थे। महात्मा गांधी के रूप में हिंदुस्तान की आवाज कांग्रेस पार्टी में आई और अंग्रेजों को भारत छोड़कर जाना पड़ा। वहीं हमें अब करना है। हिंदुस्तान की गरीब जनता की आवाज को, आम लोगों की आवाज को कांग्रेस पार्टी की आवाज बनाना है। 

राजनीतिक सिस्टम बदलने से प्रगति होगी। इसे कोई नहीं रोक पाएगा। हमारे युवा नेता बदलाव चाहते हैं। वो सिस्टम से तंग है। हमारे युवा मंत्री बदलाव चाहते हैं। मैं उनके साथ खड़ा हूं। हम हिंदुस्तान को रास्ता दिखाएंगे। राजनीतिक सिस्टम को बदलकर दिखाएंगे। विपक्ष के लोग सिर्फ नेगेटिव बात करते हैं। हम कुछ भी कहें वो खड़े होकर गलत ही बताएंगे। 

एफडीआई की बात पहले बीजेपी ने ही शुरू की थी। उनका कमजोर बिल था, हम मजबूत बिल लाए। जब हमने बिल संसद में रखा तो वो विपक्ष में खड़े हो गए। हिमाचल प्रदेश में नाइयों तक को भाजपा ने बता दिया कि एफडीआई से उनकी दुकानें बंद हो जाएंगी। लेकिन सच यह है कि एफडीआई हमारी रीढ़ की हड्डी, हमारे किसानों को मजबूत करेगी। हिंदुस्तान आगे बढ़ रहा है, दुनिया हमारी तरक्की की बात कर रही है, लेकिन हमारी विपक्षी पार्टी सिर्फ विरोध करती है। 


हम भी विपक्ष में थी। कारगिल के वक्त हमने वाजपेयी जी से कहा था आप जो भी फैसला लीजिए, हम आपके साथ खड़े हैं। लेकिन जब हम देशहित में काम करते हैं तब विपक्ष सिर्फ विरोध ही करता है। हम यहां गरीबों के लिए हैं, पिछड़ों के लिए हैं, कमजोर लोगों के लिए हैं। और हमें यह भी मालूम है कि अगर गरीब लोगों को आगे बढना है तो आर्थिक सुधारों की जरूरत है। अर्थव्यस्था को खोलने की जरूरत है, प्रगति की जरूरत है। क्योंकि जब हमारे व्यापार चलेंगे तो किसानों और मजदूरों के लिए प्रोग्राम होंगे। हम इस बात को अच्छी तरह जानते हैं और इसलिए ही हम दोनों को एक साथ लेकर चलते हैं। 

हिंदुस्तान खड़ा होगा, पूरी दुनिया इस बात को पहचानेगी। हमारा युवा सिर्फ इंडिया को नहीं बल्कि पूरी दुनिया को रास्ता दिखाएगा। और कांग्रेस पार्टी उस युवा को राजनीतिक सिस्टम में जगह देगी, वो औजार देगी जिससे वो दुनिया को रास्ता दिखाए। 

" "