" "

भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत समर्थक

Follow by Email

जनरल वीके सिंह ने भरी किसानों के लिए हुंकार


पिछले साल अन्ना के आंदोलन ने धूम मचायी थी. जनलोकपाल के सवाल पर हुए उस आंदोलन ने मनमोहन सिंह सरकार को झुका दिया था. इस साल उनके सहयोगी अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली से फर्रुखाबाद तक आंदोलन छेड़कर सरकार की नींद हराम कर दी और अब पूर्व आर्मी चीफ जनरल वी के सिंह ने किसानों के लिए भरी है आंदोलन की हुंकार.

चार दशक से ज्यादा समय तक जनरल वीके सिंह ने सरहद पार के दुश्मनों के दांत खट्टे किये. लेकिन रिटायर होने के बाद उन्होंने सरकार के खिलाफ आंदोलन का बिगुल फूंक है. जनरल तो वही है, बस उसकी आर्मी बदल गयी है. क्योंकि इस नए कप्तान के पास है किसानों की सेना.

वर्दी उतारकर सदरी चढ़ायी तो जय जवान से बात आगे बढ़कर जय किसान तक जा पहुंची. देश के 21 लाख जवानों की रहनुमाई करनेवाला जनरल रिटायर होने के बाद अब किसानों के हक के लिए हुंकार भर रहा है और हुंकार ऐसी कि सीधे देश की सबसे बड़ी पंचायत में बैठे लोकतंत्र के बड़े-बड़े पंचों को सुनायी पड़े.

जब आर्मी चीफ थे, तब जनरल साहब ने जवानों की दुर्दशा की दास्तां अपने मंत्रीजी को सुना दी थी. अब आम आदमी बनकर किसानों की आवाज सीधे प्रधानमंत्री को सुनाना चाहते हैं. इसके लिए किसी के मंच पर जाने से गुरेज नहीं. चाहे चौटाला हों या अन्ना या फिर अब वी एम सिंह, जो राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन चलाते हैं.

वी एम सिंह की मांग है कि शुगर किसानों के लिए बने रंगराजन पैनल ने देश भर के किसानों को एक समान बताकर पंजाब, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और बिहार के किसानों से भेदभाव किया गया है. सरकार इस पैनल की रिपोर्ट को रद्द करे, नहीं तो चार दिसंबर के बाद संसद का घेराव होगा, जिसे समर्थन दे रहे हैं जनरल वी के सिंह.

अब भूतपूर्व फौजी जनरल के लिए ये व्यक्ति का नहीं, विचारों का सवाल है और जब बात विचारों की आती है, तो इस देश में गांधी से ज्यादा शिद्दत से और किसे याद किया जा सकता है.

जनरल साहब ने गांधी के उस मंत्र को याद किया, जिसमें हाशिये पर खड़े आखिरी आदमी को याद किया जाता है. रिवाड़ी से दिल्ली तक जनरल की ललकार है, तो दिल्ली से फर्रुखाबाद तक केजरीवाल की. वही अपने गांव रालेगण सिद्धि से अन्ना भी नई लड़ाई के लिए कमर कस रहे हैं.

अब इसे सिविल सोसायटी की आवाज कहें या भ्रष्टाचार के खिलाफ छिड़ी मुहिम का असर, लेकिन सत्ता को साधने में माहिर सियासतदां का दर्द इन सवालों पर कुछ ऐसे निकलता है.

जनरल वीके सिंह ने तो अपने रंग तभी दिखा दिये थे, जब कुछ समय पहले ही अन्ना के मंच से सत्ता चलाने वालों को चुनौती दी थी राष्ट्रकवि रामधानी सिंह दिनकर के शब्द उधार लेकर और अब किसानों के सवाल पर चार दिसंबर के बाद संसद के घेराव का अल्टीमेटम उनकी भूमिका की नई परिभाषा गढ़ रहा है.

" "